पितृ पक्ष 2017

पितृ पक्ष को श्राद्ध पक्ष के रूप में जाना जाता है, पितृपक्ष भाद्रपद शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को चालू होता है और सर्वपितृ अमावस्या पर 16 दिनों के बाद समाप्त होता है। पितृ पक्ष में हिन्दू अपने पूर्वज (पितृ) की पूजा करते हैं, खासकर उनके नाम पर भोजन दान और तर्पण के द्वारा। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार पितृ पक्ष के 16 दिनों में  पितरों को यमलोक से मुक्त किया जाता है और उन्हें पृथवी पर जाने की इजाजत होती है।

पितृपक्ष 2017 तारीख

०५           सितम्बर               (मंगलवार)           पूर्णिमा श्राद्ध

०६           सितम्बर               (बुधवार)               प्रतिपदा श्राद्ध

०७           सितम्बर               (बृहस्पतिवार)     द्वितीया श्राद्ध

०८           सितम्बर               (शुक्रवार)              तृतीया श्राद्ध

०९           सितम्बर               (शनिवार)             चतुर्थी श्राद्ध

१०           सितम्बर               (रविवार)               महा भरणी, पञ्चमी श्राद्ध

११           सितम्बर               (सोमवार)             षष्ठी श्राद्ध

१२           सितम्बर               (मंगलवार)           सप्तमी श्राद्ध

१३           सितम्बर               (बुधवार)               अष्टमी श्राद्ध

१४           सितम्बर               (बृहस्पतिवार)     नवमी श्राद्ध

१५           सितम्बर               (शुक्रवार)              दशमी श्राद्ध

१६           सितम्बर               (शनिवार)             एकादशी श्राद्ध

१७           सितम्बर               (रविवार)               द्वादशी श्राद्ध, त्रयोदशी श्राद्ध

१८           सितम्बर               (सोमवार)             मघा श्राद्ध, चतुर्दशी श्राद्ध

१९           सितम्बर               (मंगलवार)           सर्वपित्रू अमावस्या

पितृ पक्ष का आखिरी दिन ‘सर्वपित्रू अमावस्या या महालय अमावस्या’ के रूप में जाना जाता है, पितृ पक्ष 2017 का यह सबसे महत्वपूर्ण दिन है।

Print Friendly, PDF & Email
(Visited 740 times, 5 visits today)
Translate »