गुरु गोरखनाथ मंत्र

Guru Gorakhnath Mantra in Hindi

गुरु गोरखनाथ मंत्र

।।सोहं गोरक्ष गुरुर्वै नमः ।।

  ह्रीं श्रीं गों गोरक्ष हुं फट स्वाहा ||1||

ॐ ह्रीं श्रीं गों गोरक्ष हुं हुं निरंजनात्मने हुं फट स्वाहा ||2||

ॐ  श्रीं गों लीं हं हां गोरक्षनाथाय निरंजनात्मने हं सं फट हंस: ||3||

ॐ वज्र में कोठा, वज्र में ताला, वज्र में बंध्या दस्ते द्वारा, तहां वज्र का लग्या किवाड़ा, वज्र में चौखट, वज्र में कील, जहां से आय, तहां ही जावे, जाने भेजा, जांकू खाए, हमको फेर न सूरत दिखाए, हाथ कूँ, नाक कूँ, सिर कूँ, पीठ कूँ, कमर कूँ, छाती कूँ जो जोखो पहुंचाए, तो गुरु गोरखनाथ की आज्ञा फुरे, मेरी भक्ति गुरु की शक्ति, फुरो मंत्र इश्वरोवाचा.||4||

गुरु गोरखनाथ मंत्र के लाभ

गुरु गोरखनाथ मंत्र का प्रयोग करके कोई भी व्यक्ति अपनी ज़िन्दगी में सफलता प्राप्त कर सकता है. गुरु गोरखनाथ मंत्र साधना से वशीकरण करके किसी भी व्यक्ति से अपने अनुरूप काम करवाया जा सकता है.

गुरु गोरखनाथ मंत्र का जाप कैसे करे

गुरु गोरखनाथ मंत्र सिद्धि तीव्र असर करने वाली मंत्र विद्या के अंतर्गत आती है. गुरु गोरखनाथ मंत्र साधना का प्रयोग करने वाले को सावधानियां बरतनी चाहिए. गुरु गोरखनाथ मंत्र की साधना के लिए लाल या सफ़ेद रंग का आसन उपयुक्त होता है. गोरखनाथ मंत्र का जाप करते हुए गुरु गोरखनाथ के प्रति मन में पूर्ण श्रद्धा होनी चाहिए.गुरु गोरखनाथ मंत्र की साधना के लिए रात का समय शुभ होता है. इस मंत्र का जाप 31 बार माला की मदद से किया जाना चाहिए.

गुरु गोरखनाथ मंत्र हिंदी  PDF डाउनलोड

निचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर गुरु गोरखनाथ मंत्र हिंदी PDF डाउनलोड  करे.

गुरु गोरखनाथ मंत्र हिंदी  MP3 डाउनलोड

निचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर गुरु गोरखनाथ मंत्र हिंदी  MP3 डाउनलोड  करे.

गोरख नाथ चालीसा

(Visited 2,038 times, 4 visits today)