Mata ki Aarti | माता की आरती

Mata ki Aarti in Hindi Lyrics

माता की आरती इन हिंदी

माता की आरती हिंदी लिरिक्स

 जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।

तुमको निशिदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

         जय अम्बे गौरी

माँग सिंदूर विराजत, टीको मृगमद को।

उज्जवल से दो‌नैना, चन्द्रवदन नीको॥

          जय अम्बे गौरी

कनक समान कलेवर, रक्ताम्बर राजै।

रक्तपुष्प गल माला, कण्ठन पर साजै॥

           जय अम्बे गौरी

केहरि वाहन राजत, खड्ग खप्परधारी।

सुर-नर-मुनि-जन सेवत, तिनके दुखहारी॥

             जय अम्बे गौरी

कानन कुण्डल शोभित, नासाग्रे मोती।

कोटिक चन्द्र दिवाकर, सम राजत ज्योति॥

           जय अम्बे गौरी

शुम्भ-निशुम्भ बिदारे, महिषासुर घाती।

धूम्र विलोचन नैना, निशिदिन मदमाती॥

           जय अम्बे गौरी

चण्ड-मुण्ड संहारे, शोणित बीज हरे।

मधु-कैटभ दो‌मारे, सुर भयहीन करे॥

         जय अम्बे गौरी

ब्रहमाणी रुद्राणी तुम कमला रानी।

आगम-निगम-बखानी, तुम शिव पटरानी॥

       जय अम्बे गौरी

चौंसठ योगिनी मंगल गावत, नृत्य करत भैरूँ।

बाजत ताल मृदंगा, अरु बाजत डमरु॥

        जय अम्बे गौरी

तुम ही जग की माता, तुम ही हो भरता।

भक्‍तन की दु:हरता, सुख सम्पत्ति करता॥

        जय अम्बे गौरी

भुजा चार अति शोभित, वर-मुद्रा धारी।

मनवांछित फल पावत, सेवत नर-नारी॥

        जय अम्बे गौरी

कंचन थाल विराजत, अगर कपूर बाती।

श्रीमालकेतु में राजत, कोटि रतन ज्योति॥

        जय अम्बे गौरी

श्री अम्बेजी की आरती, जो को‌नर गावै।

कहत शिवानन्द स्वामी, सुख सम्पत्ति पावै॥

        जय अम्बे गौरी

माता की आरती के लाभ

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार माता दुर्गा की पूजा के बाद माता की आरती को नियमित आधार पर करना माता दुर्गा को खुश करने और आशीर्वाद पाने का सबसे अच्छा तरीका है। माता की आरती आरती के नियमित रूप से करने से मन को शांति मिलती है और घर की सारी नकारात्मक ऊर्जा बाहर चली जाती हैं।

माता की आरती कैसे गाते हैं

सबसे अच्छा परिणाम पाने के लिए सुबह स्नान करके, माता दुर्गा का पूजन करके और माता की तस्वीर के सामने माता की आरती गाएं।

हिंदी  PDF/MP3 में माता की आरती डाउनलोड करें

नीचे क्लिक करके आप मुफ्त में माता की आरती को PDF/MP3  प्रारूप में डाउनलोड कर सकते हैं या प्रिंट भी कर सकते हैं।

Daily recitate Mata ki Aarti to please Durga Maata.

Click below to download Mata ki Aarti PDF /MP3

(Visited 6,656 times, 24 visits today)